WhatsApp Channel Link

योगी सरकार ने बेटियों के लिए निकला यह शानदार योजना आज ही करें इस तरह से रजिस्ट्रेशन मिलेगा फायदा

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई “मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना” एक महत्वपूर्ण और जनहितकारी योजना है, जिसका उद्देश्य प्रदेश की बेटियों के जीवन को संवारना और उन्हें सशक्त बनाना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करना, बालिकाओं के स्वास्थ्य और पोषण में सुधार लाना और उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करना है ताकि वे समाज में सशक्त रूप से अपनी भूमिका निभा सकें।

Chief Minister Kanya Sumangala Scheme

योजना का परिचय

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत 25 अक्टूबर 2019 को की गई थी। यह योजना उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में शुरू की गई थी, जो राज्य में बालिकाओं के समग्र विकास को सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इस योजना के तहत बालिकाओं को उनकी शिक्षा और स्वास्थ्य के विभिन्न चरणों में आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है, जिससे उनके परिवारों पर वित्तीय बोझ कम हो और बालिकाओं की शिक्षा में कोई बाधा न आए।

AD

 

योजना के लाभ

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत बालिकाओं को छह चरणों में आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है:

  1. प्रथम चरण: बालिका के जन्म पर ₹2000 की राशि।
  2. द्वितीय चरण: एक वर्ष की आयु पर सभी टीकाकरण पूरा होने पर ₹1000 की राशि।
  3. तृतीय चरण: कक्षा 1 में प्रवेश पर ₹2000 की राशि।
  4. चतुर्थ चरण: कक्षा 6 में प्रवेश पर ₹2000 की राशि।
  5. पंचम चरण: कक्षा 9 में प्रवेश पर ₹3000 की राशि।
  6. षष्ठम चरण: 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने और स्नातक स्तर पर प्रवेश पर ₹5000 की राशि।

इस प्रकार, एक बालिका को उसके विभिन्न शैक्षणिक और स्वास्थ्य संबंधित मील के पत्थरों पर कुल ₹15000 की आर्थिक सहायता प्राप्त होती है।

पात्रता

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित पात्रता शर्तें निर्धारित की गई हैं:

  1. निवास: लाभार्थी उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  2. आय: लाभार्थी परिवार की वार्षिक आय ₹3 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  3. बालिका की स्थिति: योजना का लाभ केवल दो बालिकाओं को प्रदान किया जाएगा। तीसरी बालिका को लाभ तभी मिलेगा जब वह जुड़वां के रूप में जन्मी हो।

योजना के उद्देश्य

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का मुख्य उद्देश्य बालिका शिक्षा को बढ़ावा देना है। यह योजना बालिकाओं को शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करती है और उनके स्वास्थ्य और पोषण का ध्यान रखती है। योजना का एक अन्य उद्देश्य लिंग समानता को बढ़ावा देना और बालिकाओं के प्रति समाज की मानसिकता को बदलना है। यह योजना बालिकाओं के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को प्रोत्साहित करती है और उन्हें समाज में सशक्त बनने के लिए प्रेरित करती है।

आवेदन प्रक्रिया

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया सरल और सुगम है। आवेदन करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करना होता है:

  1. ऑनलाइन पंजीकरण: योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन पंजीकरण करना होता है।
  2. दस्तावेज़ अपलोड: आवेदन पत्र के साथ आवश्यक दस्तावेज़, जैसे जन्म प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र आदि अपलोड करने होते हैं।
  3. आवेदन की समीक्षा: आवेदन की समीक्षा के बाद संबंधित अधिकारी द्वारा स्वीकृति दी जाती है।
  4. आर्थिक सहायता का वितरण: स्वीकृति के बाद लाभार्थी के बैंक खाते में आर्थिक सहायता की राशि ट्रांसफर की जाती है।

योजना की सफलता

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना ने अब तक हजारों बालिकाओं को लाभान्वित किया है। इस योजना के तहत प्राप्त आर्थिक सहायता ने कई परिवारों की आर्थिक स्थिति को मजबूत किया है और बालिकाओं को शिक्षा प्राप्त करने में मदद की है। योजना की सफलता का श्रेय राज्य सरकार के दृढ़ संकल्प और बालिका शिक्षा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को जाता है।

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना उत्तर प्रदेश सरकार की एक प्रभावी और प्रगतिशील पहल है, जो बालिकाओं के समग्र विकास को सुनिश्चित करती है। यह योजना बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य और पोषण का भी ध्यान रखती है। इस योजना के माध्यम से बालिकाओं को आत्मनिर्भर और सशक्त बनने का अवसर मिलता है, जिससे वे समाज में महत्वपूर्ण योगदान दे सकें। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना न केवल बालिकाओं के जीवन को संवारती है, बल्कि समाज में लिंग समानता को भी बढ़ावा देती है।

AD4A