WhatsApp Channel Link

गूगल ने किसकी लगाई तस्वीर कौन है Hamida Banu इनका यूपी के मिर्जापुर से क्या है कनेक्शन

इंडिया गूगल ने एक तस्वीर लगाइए इसके बारे में बहुत लोग नहीं जानते हैं आखिर गूगल ने यह तस्वीर क्यों लगाई है तस्वीर लगाने के बाद भारत में क्यों हो रही है चर्चा गूगल ने लिखा है की Google Doole hamida banu आखिर गूगल के इस तस्वीर लगाने के बाद भारत सहित दुनिया भर में खूब चर्चा हो रही है।

AD

 

आपको बता दें कि हमीदा बानो भारत की पहली महिला पहलवान थी साल 1954 में आज के दिन 4 मई को आयोजित एक कुश्ती मैच में केवल उन्होंने दुनिया के नंबर वन पहलवान को मात्र 1 मिनट 34 सेकंड में पराजित कर दिया था जिसके बाद दुनिया भर में हमीदा बानो का नाम सुर्खियों में आ गई जिसके बाद आज गूगल ने उनका सम्मान देने के लिए अपने सर्च इंजन के पहले पेज पर गूगल लोगों के जगह पर हमीदा बानो का तस्वीर लगाया है।

हमीदा बानो का जीवन संघर्षों से भरा रहा है क्योंकि उनकी पहलवान बनने की जिद उनको उनके घर वालों से अलग कर दिया घरवाले नहीं चाहते थे कि हमीदा बानो पहलवान बने लेकिन घर वालों के अनुमति के बिना हमीदा बानो ने कुश्ती में दिलचस्पी ली और अखाड़ा में उतरकर कुश्ती लड़ी।

1940 के आसपास भारत में कोई महिला कुश्ती लड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकती थी लेकिन उस समय हमीदा बानो ने अपने परिवार से अलग होकर कुश्ती का प्रशिक्षण लिया, हमीदा बानो अपने परिवार से अलग होकर अलीगढ़ चली गई यहां उन्होंने सलमान पहलवान से कुश्ती के गुण सीखें इसके बाद मुकाबला में उतारना शुरू किया।

1940 से 50 के बीच में हमीदा बानो देश की पहली लोकप्रिय महिला पहलवान बन चुकी थी उस समय देश के तमाम बड़े पहलवानों को हराकर देश में लोकप्रिय हासिल कर चुकी थी। यहां तक कहा जाता है कि हमीदा बानो ने अपनी शादी के लिए ऐलान कर दिया था कि जो पहलवान कुश्ती में हराएगा में उसी के साथ शादी करूंगी लेकिन पूरी दुनिया में कोई ऐसा पहलवान नहीं मिला जो हमीदा बानो से कुश्ती में हरा सके।

अनेकों पहलवानों ने हमीदा बानो से कुश्ती में आकर लड़े लेकिन कोई जीत नहीं पाया हालांकि अपनी शादी के इस ऐलान के बाद काफी सुर्खियों में रही हमीदा बानो, इनकी जीतने की सुर्खियां इतनी हुई की बहुत पहलवान इनसे लड़ने के नाम तक नहीं लेते थे पूरी दुनिया में उस समय सुर्खियों में आई जब दुनिया का सबसे बड़ा बाबा पहलवान के साथ मुकाबला हुआ और हमीदा बानो ने मात्र 1 मिनट 34 सेकंड में बाबा को हरा दिया उस समय रेफरी ने कहा कि हमीदा बानो को हराना बहुत मुश्किल है।

हमीदा बानो का जन्म मिर्जापुर के एक छोटे से गांव में हुआ था जहां परिवार के लोग नहीं चाहते थे कि यह कुश्ती लड़े लेकिन परिवार के लोगों के विरोध के बावजूद भी हमीदा बानो ने कुश्ती लड़ी और पुरी दुनिया में अपना नाम रोशन की आज ही के दिन 4 मई को हमीदा बानो ने दुनिया का सबसे बड़ा पहलवान बाबा पहलवान को हराया था जिनके सम्मान में गूगल ने आज उनके तस्वीर के साथ उनकी जानकारी शेयर किया है।

AD4A